Bashir Badr Poetry | मांगा था जिसे हम ने दिन रात दुआओं में | Urdu Literature

Bashir Badr Poetry ख़ुशबू की तरह आया वो तेज हवाओं में मांगा था जिसे हम ने दिन रात दुआओं में.