दो हिस्सो में बंट गये – अरमान शायरी

दो हिस्सो में बंट गये
मेरे तमाम अरमान…
कुछ तुझे पाने निकले,
कुछ मुझे समझाने निकले।

do hisso mein bant gaye
mere tamaam aramaan…
kuchh tujhe paane nikale,
kuchh mujhe samajhaane nikale.

मैं कुछ लम्हा और तेरा – अरमान शायरी

मैं कुछ लम्हा और तेरा साथ चाहता था,
आँखों में जो जम गयी वो बरसात चाहता था,
सुना हैं मुझे बहुत चाहती है वो मगर,
मैं उसकी जुबां से एक बार इज़हार चाहता था।

main kuchh lamha aur tera saath chaahata tha,
aankhon mein jo jam gayee vo barasaat chaahata tha,
suna hain mujhe bahut chaahatee hai vo magar,
main usakee jubaan se ek baar izahaar chaahata tha.

दो अश्क मेरी याद में – अरमान शायरी

दो अश्क मेरी याद में बहा जाते तो क्या जाता,
चन्द कालियां लाश पे बिछा जाते तो क्या जाता ।

do ashk meree yaad mein baha jaate to kya jaata,
chand kaaliyaan laash pe bichha jaate to kya jaata .

हक़ीक़त ना सही तुम – अरमान शायरी

हक़ीक़त ना सही तुम
ख़्वाब की तरह मिला करो,
भटके हुए मुसाफिर को
चांदनी रात की तरह मिला करो ।

haqeeqat na sahee tum
khvaab kee tarah mila karo,
bhatake hue musaaphir ko
chaandanee raat kee tarah mila karo

हर एक पहलू तेरा – अरमान शायरी

हर एक पहलू तेरा मेरे दिल में आबाद हो जाये,
तुझे मैं इस क़दर देखूं मुझे तू याद हो जाये…।।

har ek pahaloo tera mere dil mein aabaad ho jaaye,
tujhe main is qadar dekhoon mujhe too yaad ho jaaye…..

शाम के बाद सुबह – अरमान शायरी

शाम के बाद सुबह आती है
देख लेना अपनी आँखों से,
दिल की बात एक दिन होठों पे आएगी,
सुन लीजियेगा अपने कानों से।

shaam ke baad subah aatee hai
dekh lena apanee aankhon se,
dil kee baat ek din hothon pe aaegee,
sun leejiyega apane kaanon se.

दिल एक मोम है – अरमान शायरी

उम्मीदें जुड़ी हैं तुझसे टूटने मत देना,
दिल एक मोम है पिघलने मत देना,
दिल ने चाहा है उसे आज पता चला ,
इस धड़कन को कभी बंद होने मत देना

ummeeden judee hain tujhase tootane mat dena,
dil ek mom hai pighalane mat dena,
dil ne chaaha hai use aaj pata chala ,
is dhadakan ko kabhee band hone mat dena